1.     फंडिंग रेट आर्बिट्रेज क्या है?

स्पॉट प्राइसेस के साथ फ्यूचर्स प्राइसेस को स्थिर करने के लिए, क्रिप्टो परपेचुअल फ्यूचर्स मार्केट्स ने फंडिंग रेट मैकेनिज्म की शुरुआत की। मैकेनिज्म के अनुसार, अगर मार्केट में तेजी आती है और बुल्स मार्केट पर हावी हो जाते हैं, तो फंडिंग दर सकारात्मक होने के साथ परपेचुअल फ्यूचर्स प्राइसेस स्पॉट प्राइसेस की तुलना में ज्यादा होंगी, जिसका मतलब है कि लॉन्ग साइड को शॉर्ट साइड को फंडिंग फीस का भुगतान करना होगा। जब फंडिंग दर नकारात्मक होगी तो यह इसके विपरीत होगा। विस्तृत नियमों के लिए कृपया नीचे देखें:

जब फंडिंग रेट सकारात्मक होता है, तो लॉन्ग पोजिशन होल्डर्स (कॉन्ट्रैक्ट बायर्स) को शॉर्ट पोजिशन होल्डर्स (कॉन्ट्रैक्ट सेलर्स) को फंडिंग फीस का भुगतान करना पड़ता है; जब फंडिंग रेट नकारात्मक होता है, तो शॉर्ट पोजिशन होल्डर्स (कॉन्ट्रैक्ट सेलर्स) को लॉन्ग पोजिशन होल्डर्स (कॉन्ट्रैक्ट बायर्स) को फंडिंग फीस का भुगतान करना पड़ता है। 

कृपया ध्यान दें: AscendEX की फंडिंग फीस का सेटलमेंट हर 8 घंटे में 00:00 UTC, 08:00 UTC और 16:00 UTC पर होता है।

इसलिए, सैद्धांतिक रूप से, प्राइस में उतार-चढ़ाव के जोखिमों की परवाह किए बिना, लगातार हाई लेवल के फंडिंग रेट वाले पोजीशन्स होल्डिंग टोकन्स उच्चतर रिटर्न्स अर्जित कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में, अगर कोई टोकन हाई फंडिंग रेट के साथ आता है जो लंबे समय तक बना रहता है, तो इन्वेस्टर्स फंडिंग रेट मैकेनिज्म का लाभ उठाकर टोकन को होल्ड करने से लाभ प्राप्त करना जारी रख सकते हैं।

OMI परपेचुअल फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स को उदाहरण के तौर पर लें, AscendEX पर परपेचुअल फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स की फंडिंग रेट हिस्ट्री के अनुसार, OMI परपेचुअल फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स पर फंडिंग दर लंबे समय तक हाई लेवल पर सकारात्मक बनी रहती है, जिसका मतलब यह है कि बस OMI की एक शॉर्ट पोजीशन होल्ड करके उपयोगकर्ता फंडिंग फीस से कमाई करने में सक्षम हैं।

लेकिन यह ध्यान रखना जरूरी है कि उपरोक्त प्रोफिट रणनीति प्राइस अस्थिरता जोखिमों को ध्यान में नहीं रखती है। सिद्धांत रूप में, हालांकि इन्वेस्टर्स बस OMI की एक शॉर्ट पोजीशन होल्ड करके फंडिंग फीस से लाभ उठा सकते हैं, एक बार मार्केट ट्रेंड्स की शुरुआती उम्मीदों के खिलाफ चलने के बाद, यानी OMI प्राइस रैलियों के चलते उन्हें पोजीशन होल्ड करने से नुकसान होगा। जोखिम को हेज करने के लिए, इन्वेस्टर्स को स्पॉट मार्केट में OMI के बराबर खरीदारी करनी होगी या मार्जिन मार्केट में समान मूल्य वाले एसेट की लॉन्ग पोजीशन्स होल्ड करनी होगी।

 

2.     फंडिंग रेट आर्बिट्रेज की मुख्य रणनीति

फंडिंग रेट आर्बिट्रेज में महारत हासिल करने के लिए, इन्वेस्टर्स को दो प्रमुख पहलुओं पर ध्यान देना चाहिए:

1)     हाई फंडिंग रेट वाला टोकन चुनें जो लंबे समय तक बना रहे

फंडिंग फीस से आर्बिट्रेज करने के लिए, इन्वेस्टर्स को लंबे समय तक चलने वाले हाई फंडिंग रेट वाले वाले टोकन का चयन करना चाहिए।

कृपया ध्यान दें: फंडिंग रेट आर्बिट्रेज को लागू करने से पहले, आप रेफरेंस के लिए AscendEX पर सभी फ्यूचर्स टोकन्स के फंडिंग रेट्स के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स और हिस्ट्री डेटा  देख सकते हैं।

2)     स्पॉट/मार्जिन मार्केट में विपरीत पोजीशन्स होल्ड करके अस्थिरता के जोखिमों को हेज करें

प्राइस की अस्थिरता के जोखिमों को कम करने के लिए, परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग के लिए फंडिंग रेट आर्बिट्रेज को अपनाने वाले उपयोगकर्ताओं को ट्रेडिंग के जोखिमों को हेज करने के लिए स्पॉट या मार्जिन मार्केट में समान मूल्य की विपरीत पोजीशन्स को होल्ड करने की जरूरत होती है, इस प्रकार लॉन्ग-टर्म प्रोफिट्स प्राप्त होते हैं।

 

3.     फंडिंग फीस से आर्बिट्रेज करने के लिए कदम

आसान भाषा में कहें तो, उपयोगकर्ताओं को परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग में एक पोजीशन और स्पॉट/मार्जिन ट्रेडिंग में समान मूल्य की विपरीत पोजीशन होल्ड करनी चाहिए।

1) फंडिंग फीस से आर्बिट्रेज - परपेचुअल फ्यूचर्स/स्पॉट हेजिंग

क. स्पॉट एसेट्स खरीदें

ख. परपेचुअल फ्यूचर्स मार्केट में समान मूल्य वाले एसेट्स की एक शॉर्ट पोजीशन खोलें

ग. पोजीशन को क्लोज करने के लिए एक समय चुनें और प्रोफिट कमाने के लिए स्पॉट एसेट्स को बेचें 

OMI परपेचुअल फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स को उदाहरण के तौर पर लें, मान लें कि OMI का फंडिंग रेट 0.422% है और इसके 0.566% तक बढ़ने की उम्मीद है। उपयोगकर्ता A, परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग में समान मूल्य वाले OMI की शॉर्ट पोजीशन ओपन करते समय स्पॉट ट्रेडिंग में 10,000 USDT मूल्य का OMI खरीदता है। अगले फंडिंग इंटरवल में, उपयोगकर्ता को 10,000 USDT*0.556%=55.6 USDT अर्जित करने की उम्मीद है। मान लें कि फंडिंग का रेट एक सप्ताह के लिए इस लेवल पर रहेगा, जिसका मतलब है कि उपयोगकर्ता पोजीशन को एक सप्ताह तक होल्ड करने से 55.6*3*7=1167.6 USDT अर्जित करेगा। (कृपया ध्यान दें: समझने की सुविधा के लिए, मामला होल्डिंग पीरियड के दौरान प्राइस एक्शन्स से उत्पन्न होने वाली पोजीशन के मूल्य के बदलावों को ध्यान में नहीं रखता है।) 

कृपया ध्यान दें: हेजिंग को सिर्फ तभी रियलाइज किया जा सकता है जब स्पॉट और फ्यूचर्स पोजीशन्स मूल्य में बराबर हों। 

2) फंडिंग फीस से आर्बिट्रेज - परपेचुअल फ्यूचर्स/मार्जिन हेजिंग 

चूंकि मार्जिन ट्रेडिंग में ब्याज के रेट्स शामिल होते हैं, इसलिए फंडिंग रेट आर्बिट्रेज को अपनाते समय उपयोगकर्ताओं को ब्याज के रेट्स के संभावित प्रभावों पर विचार करने की जरूरत होती है।

क.     जब फंडिंग का रेट सकारात्मक होता है और ब्याज के रेट और लेनदेन की फीस के योग से ज्यादा होता है, तो शॉर्ट साइड को लॉन्ग साइड से फंडिंग फीस प्राप्त होगी, यानी परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग में समान मूल्य वाले एसेट की शॉर्ट पोजीशन ओपन करते समय मार्जिन ट्रेडिंग में एसेट बाइंग।

ख.     जब फंडिंग का रेट नकारात्मक होता है और ब्याज के रेट और लेनदेन की फीस के योग से ज्यादा होता है, तो लॉन्ग साइड को शॉर्ट साइड से फंडिंग फीस प्राप्त होगी, यानी परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग में समान मूल्य वाले एसेट की लॉन्ग पोजीशन ओपन करते समय मार्जिन ट्रेडिंग में एसेट सेलिंग। 

कुल मिलाकर, लेनदेन की लागतों को देखते हुए, परपेचुअल फ्यूचर्स ट्रेडिंग और फिक्स्ड फीस रेट्स में फंडिंग के रेट्स (फ्लोटिंग रेट्स) के बीच का अंतर इस बात की कुंजी है कि आप परपेचुअल फ्यूचर्स और स्पॉट मार्जिन ट्रेडिंग से कितना आर्बिट्रेज कर सकते हैं। फ्यूचर्स फंडिंग रेट को अपरिवर्तित देखते हुए, एक बड़ा प्रोफिट अर्जित करने के लिए, उपयोगकर्ताओं को फिक्सड फीस रेट्स को कम करने की जरूरत है, यानी ब्याज के रेट और लेनदेन की फीस को कम करना। AscendEX एक टियर्ड फीस रेट सिस्टम को अपनाता है। अकाउंट का लेवल जितना ज्यादा होगा, फीस के रेट्स उतने ही कम होंगे। उपयोगकर्ता हायर रिटर्न्स अर्जित करने के लिए तदनुसार उचित फंडिंग रेट आर्बिट्रेज डेवलप करने के लिए AscendEX के फीस रेट्स सिस्टम को देख सकते हैं।

 

4.     फंडिंग रेट आर्बिट्रेज पर नोट्स:

1)     लिक्विडेशन से बचने के लिए कम लेवरेज। चूंकि परपेचुअल कॉन्ट्रैक्ट्स की प्राइसेस स्पॉट प्राइस एक्शन्स के साथ चलती हैं, इसलिए फंडिंग रेट आर्बिट्रेज में जोखिम कम होता है या कोई भी जोखिम नहीं होता है। हालांकि, उपयोगकर्ताओं को अभी भी प्राइस में बड़े उतार-चढ़ाव के कारण होने वाले लिक्वडेशन के जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए।

2)     मार्केट रिसर्च करें और टोकन के चयन के बारे में सतर्क रहें। फंडिंग फीस से आर्बिट्रेज करने के लिए, उपयोगकर्ताओं को खरीदने के लिए एसेट्स और उनके फंडिंग रेट्स पर अपनी खुद की मार्केट रिसर्च करने की जरूरत होती है ताकि लंबे समय तक चलने वाले हायर फंडिंग रेट वाले सही टोकन का चयन किया जा सके।

3)     ट्रेडिंग के जोखिमों को कम करने के लिए ठीक से निवेश करें। अगर बड़े पैमाने पर इन्वेस्टमेंट को लिमिटेड मार्केट डेप्थ वाले स्मॉल-कैप टोकन में डाल दिया जाता है, तो स्लिपेज हो सकती है।

4)     इन्वेस्टमेंट के एसेट्स को न बदलें और पोजीशन्स को बार-बार एडजस्ट करें। पोजीशन्स को बार-बार एडजस्ट करने और हेजिंग के लिए इन्वेस्टमेंट्स के एसेट्स को बदलने से अर्जित लाभ लेनदेन की लागतों को कवर करने में विफल हो जाएगा।